आखिर वैज्ञानिकों ने बता ही दिया कि पहले अंडा आया था या मुर्गी

आमतौर पर लोग यह सवाल पूछ कर लोगों को बहुत गुमराह और परेशान करते हैं कि पहले अंडा आया था या मुर्गी अगर कोई कह दे कि पहले मुर्गी आई थी तो लोग पूछते हैं फिर मुर्गी कहां से आई थी तो लोगों का जवाब होता था कि अंडे से फिर लोग यही सवाल पूछते थे फिर अंडा कहां से आया यह सवाल सबका माथा खराब कर के रख देता था लेकिन अब इसका जवाब मिल चुका है कि पहले मुर्गा आया था या मुर्गी पहले अंडा आया था या मुर्गी इस सवाल का जवाब वैज्ञानिकों ने ढूंढ लिया है तो चलिए जानते हैं कि पहले मुर्गी आया था या अंडा

पहले अंडा आया था या मुर्गी

यह सवाल एक लंबे दशक से चर्चा का विषय बना हुआ है कि पहले मुर्गी आया थी या अंडा लेकिन जब यही सवाल वैज्ञानिकों से पूछा गया तो वैज्ञानिकों ने मुर्गी और अंडे के ऊपर रिसर्च करना शुरू कर दिया कि पहले मुर्गी आई थी या अंडा इस सवाल को ढूंढने के लिए बहुत मेहनत करने के बाद आखिरकार वैज्ञानिकों ने इसका जवाब ढूंढ ही लिया कि पहले मुर्गी आई थी या अंडा वैज्ञानिकों ने जो तर्क दिया है वह आपको बहुत पसंद आएगा और यह आप को संतुष्ट भी कर देगा

Unique answer: इस एक्सपेरिमेंट को करने के लिए वैज्ञानिकों ने सबसे पहले पुराने समय के पक्षी , सांप और स्तनधारी अंडे ना देकर विकसित बच्चों को जन्म देते होंगे इसलिए वैज्ञानिकों ने सबसे पहले 29 जीवित जातियों को लेकर उनका एक समूह बनाया उसके बाद वैज्ञानिकों ने 51 वाहनों को लेकर उसके ऊपर रिसर्च करना शुरू कर दिया जब उन्होंने इसके ऊपर रिसर्च करना शुरू किया तो इसे दो भागों में बांट दिया ओविपेरस और दूसरी थी विविपेरस और जो उन्हें इसका रिजल्ट मिला वह वाकई चौका देने वाला था

ओविपेरस शिर्डी में वह जीव आते हैं जो अंडे देते हैं विविपेरस उन लोगों को रखा गया जो विकसित बच्चों को जन्म देते हैं जो जीव कटोरा और नरम गोल वाले अंडे को जन्म देते थे उन्हें ओविपेरस श्रेणी में रखा गया है इन सब जानकारी को इकालॉजी एंड इवाल्‍यूशन जर्नल में छपा है।

वैज्ञानिकों के एक बड़े समूह का ऐसा मानना है कि एमनियोटस से पहले कशेरुकाओं का एक समूह भ्रूण के विकास से गुजर रहा था जो मछली जैसे की प्रजाति का था जिसका विकास हुआ जिसके पहले पंख से फिर विकास हुआ और उनके शरीर में अंग आ गए और यह लोग पहले उभयचर माने जाते हैं जैसे सैला मेंढक और मेंढक के समान उन्हें खाने और प्रजनन करने के लिए पानी के आसपस ही रहना पड़ता था

ब्रिटिश यूनिवर्सिटी कि कई महान वैज्ञानिकों ने बताया कि पहले मुर्गा मुर्गी जैसे आप दिखते हैं वैसे नहीं हुआ करते थे उन्होंने समय के साथ अपने शरीर में परिवर्तन किया और फिर उसके बाद वह मुर्गा और मुर्गी कहलाने लगे उनको द्वारा पूर्ण रूप से विकसित बच्चों को जन्म दिया जाता था लेकिन समय के साथ-साथ उनके शरीर में काफी बदलाव हुआ जो मुर्गी विकसित बच्चों को जन्म देती थी वह आज के समय में अंडों को जन्म देती है इसे ही कहा जाता है प्राकृतिक परिवर्तन अब जो लोग यह पूछते हैं कि पहले मुर्गा आया था या मुर्गी तो अब आपके पास जवाब देने के लिए है पहले मुर्गी आई थी और मुर्गी पहले बच्चों को जन्म देती थी लेकिन परिवर्तन के साथ-साथ मुर्गी अंडे को जन्म देने लगी

पहले मुर्गी आई थी या अंडा इसका सही जवाब है पहले मुर्गी आई थी

1 thought on “आखिर वैज्ञानिकों ने बता ही दिया कि पहले अंडा आया था या मुर्गी”

Leave a Comment