बिना तालाब के किया मछली पालन और कमाया लाखों रुपया: इस नए तरीके से

Latest fishing farming : दोस्त मछली पालन भारत में बहुत ही प्रचलित व्यवस्था है लेकिन मछली पालन कई प्रकार से किए जाते हैं कुछ लोग पोखरे में मछली पालन करते हैं कुछ लोग तालाब में मछली पालन करते हैं लेकिन पंकज सिंह एक किसान जिसने एक नए तरीके से मछली पालन किया और यहां से लाखों रुपए कमाए और अपने तीन लाख के कर्जे को 1 साल में ही चुका दिया और इस धंधे से बहुत ही अच्छा पैसा कमा रहे हैं पंकज सिंह आज के समय में मछली पालन करने वाले किसानों में बहुत ही ज्यादा प्रचलित हो चुके हैं और उनके लिए एक मिसाल बन चुके हैं

image by google

नए तरीके का मछली पालन

हमारे देश के किसान कृषि से जुड़े हुए हैं जो हमेशा केहू और चावल की खेती करते थे लेकिन दिन प्रतिदिन इन में फायदा घटता हुआ जा रहा है इसलिए समय के साथ-साथ किसान अपनी खेती करने के तरीके को बदलने हैं इसलिए अब किसान ज्यादातर जो अच्छे किसान हैं वह मछली पालन कर रहे हैं बिल्कुल उसी तरह पंकज सिंह ने एक नए तरीके से मछली पालन किया और लोगों के बीच में मिसाल बन चुके हैं

खेती से नहीं उतरा कर्जा तो किया मछली पालन

मध्य प्रदेश के जिला नरसिंहपुर के पंकज सिंह बताते हैं कि वह परंपरागत गेहूं और धान की खेती करते थे लेकिन धीरे-धीरे घर में पैसा ना होने की वजह से वह लोगों से कर्जा लेते गए और कर्जा इतना बढ़ गया कि वह धान और गेहूं की खेती से अपनी कर्जा को चुका नहीं पा रहे थे वह बताते हैं कि वह जब 1 एकड़ में खेती करते थे तो वह 25 से ₹30000 ही 6 महीने में कमा पाते थे लेकिन जब उन्होंने मछली की खेती की तो वह 1 साल में ही अपने सारे करजू को माफ करके कर्ज मुक्त बन गया है

क्या है मछली पालन का नया तरीका

पंकज सिंह बताते हैं कि जब वह मछली पालन करने का विचार उनके दिमाग में आया तब उनके पास मछली पालन करने के लिए ना तो तालाब थाना जमीन इसलिए उन्होंने बायो फ्लॉक तकनीकी का प्रयोग करना शुरू किया वह बताते हैं इस तकनीकी के प्रयोग से वह काफी अच्छा मछली पालन कर रहे हैं वह छोटा सा एक गोल टैंक बनाकर उसमें मछली पालन करते हैं और वह बताते हैं कि यह तकनीक बहुत ही ज्यादा कारगर साबित हो रही है

1 साल में किया ढाई लाख की आमदनी

पंकज सिंह अपने मीडिया इंटरेक्शन में बताते हैं कि उनके पास जमीन नहीं थी तो उन्होंने बायो फ्लॉक से तकनीकी का यूज करके एक गोल्ड पैक बनाकर उसमें मछली पालन करना शुरू किया था इससे उन्हें 1 साल में ढाई लाख रुपए का मुनाफा हुआ आपको बताते चलें कि वह बताते हैं कि गांव में बहुत सारे किसान अभी मछली पालन करना पसंद कर रहे हैं क्योंकि यह बहुत ही फायदे का धंधा है

तूफान से हुई थी पूरी खेती बर्बाद

पंकज सिंह बताते हैं कि जब वह परंपरागत खेती करते थे उन्हें इस बात का भी बहुत डर रहता था कि कहीं प्राकृतिक आपदा आ कर पूरे खेती को भी नष्ट ना करदे कई बार तूफानों ने मेरी खेती को नष्ट किया है जिससे मुझे भारी नुकसान होता था और जो भी मैंने बैंक से लोन लिया था उसे चुका नहीं पा रहा था इन सभी कारणों की वजह से मैंने मछली का व्यवसाय शुरू किया और आज के समय में काफी अच्छा व्यवसाय कर रहा हूं जिससे मैं साल के लाखों रुपया आराम से कमा लेता हूं

1 thought on “बिना तालाब के किया मछली पालन और कमाया लाखों रुपया: इस नए तरीके से”

Leave a Comment