गरीब किसान को 500 किलो प्याज के बदले मिले ₹2 आखिर क्यों

इस घटना से हम किसानों की आर्थिक स्थिति का अंदाजा लगा सकते हैं कि वह आखिर कितना पैसा कमाते हैं हर सरकार किसानों के विकास के लिए दावा तो करती है लेकिन कोई भी सरकार किसानों के लिए कुछ नहीं करती महाराष्ट्र में भी एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे देखकर हम देश के किसानों की आर्थिक स्थिति का अंदाजा लगा सकते हैं एक किसान को अपने प्यार को बेचने के लिए 70 किलोमीटर दूर जाना था

उसके पास 512 किलो प्याज थे उसके 512 किलो प्याज को व्यापारी ने ₹1 प्रति किलो के हिसाब से खरीदा और प्याज को 70 किलोमीटर दूर लेकर जाने में जो खर्चा आया था उसे काटने के बाद किसान को सिर्फ ₹2 मिला जब व्यापारी से यह बात पूछी गई तो व्यापारी ने कहा कि उसकी कोई गलती नहीं है उस किसान की प्याज बहुत खराब थी इसलिए मैंने ₹1 प्रति किलो के हिसाब से खरीदा

ऊपर हमने किसान के प्याज की बिल्कुल आपके साथ साझा किया है आप देख सकते हैं जहां पर साफ-साफ लिखा हुआ है ₹512 में किसान ने पूरे ब्याज को भेजा था जो ₹1 प्रति किलो के हिसाब से पड़ा था पैसे भुगतान करने के बाद किसान को 2.49 रुपया ही मिला था

किसान 70 किलोमीटर दूध प्याज बेचने क्यों गया था

अब आप में से बहुत सारे लोग यह सवाल दिमाग में सोच रहे होंगे कि आखिर किसान को 70 किलोमीटर दूर जाकर प्याज भेजने की क्या जरूरत थी सोलापुर जिले के बर्शी तालुका के बोरगांव राजेंद्र तुकाराम अपनी प्याज को 70 किलोमीटर सोलापुर मंडी लेकर पहुंच गए थे जहां पर उन्होंने अपने प्याज को उचित दर पर बेचने की बहुत कोशिश की लेकिन वह प्यार तुझसे दर्पण नहीं भेजी जिसके कारण मजबूरी में आकर उन्हें ₹1 प्रति किलो के हिसाब से ही प्याज को बेचना पड़ा व्यापारी ने उनके प्याज को खराब बताकर ₹1 प्रति किलो के हिसाब से खरीद लिया

व्यापारी ने किसान को ₹2 का चेक दिया

गरीब किसान राजेंद्र तुकाराम ने बताया कि उन्हें प्याज के बदले ₹512 मिले थे लेकिन जिसमें से 509.5 रुपया काट लिया गया लोडिंग का वहीं पर राजेंद्र बताते हैं कि पिछले साल तब वह इसी मंडी में प्याज बेचने आए थे तो उन्हें ₹20 प्रति किलो के हिसाब से रेट मिला था

जब राजेंद्र से पूछा गया कि इतना नुकसान होने से वह दुखी है कि नहीं वह अपने दुख को बताते हुए कहते हैं की पहले से प्याज गाना बहुत महंगा हो गया है कीटनाशक और फसलों में दबाव डालने का दाम 3 से 4 गुना बढ़ चुका है इस पर मुझे 500 किलो प्याज उगाने में ₹40000 का खर्चा आ गया जो बहुत ही ज्यादा है गरीब के लिए

1 thought on “गरीब किसान को 500 किलो प्याज के बदले मिले ₹2 आखिर क्यों”

Leave a Comment